Latest :
कुवैत अग्निकांड: 'मेरे पति को मेरे पास वापिस लाओ' पत्नी ने रो-रो कर लगाई मदद की गुहार कहा- मैं उसे देखना चाहती हूं..बंदरों के झुंड ने छात्रा पर किया हमला, तीसरी मंजिल से गिरकर मौत...उत्तरी सिक्किम में बाढ़-भूस्खलन से फिर तबाही, 1 व्यक्ति की मौत, 5 लापतासुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला: दोबारा परीक्षा देंगे छात्र, NEET ग्रेस अंक रद्दजमीन की फर्जी वसीयत बनवाने के मुकदमें में एक आरोपी गिरफ्तारबिजली मंत्री मनोहर लाल ने संभाला पदभार, पहली तस्वीर आई सामनेप्याज की कीमतों ने जनता को रूलाया, इतने रूपए हुआ महंगामाता वैष्णों देवी के बाद अब अमरनाथ यात्रा को लेकर अलर्ट जारी, घाटी 150 से ज्यादा आतंकी एक्टिवदिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने मोदी 3.0 सरकार के शपथ ग्रहण समारोह से पहले जारी की एडवाइजरी, इन रूट्स पर जानें से बचेंमोदी सरकार 3.0: BJP अपने पास रखेगी ये 4 अहम मंत्रालय
National

गलवान घाटी हिंसा: छपरा का लाल सुरक्षित, एक ही नाम से हुई गलतफहमी, परिजनों से की बात

June 17, 2020 11:52 AM

Star Khabre, National; 17th June : पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर सोमवार की देर रात भारत और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई जिसमें भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए। सरकार के सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है। इस झड़प में बिहार के  चार सपूत भी शहीद हो गए हैं। चंचौरा के संजय, भोजपुर के कुंदन ओझा, सहरसा के कुंदन कुमार और समस्तीपुर जिले में मोहिउद्दीननगर के सैनिक अमन कुमार सिंह ने वीरगति प्राप्त की।

बता दें कि सारण के सुनील की मौत की खबर जैसे ही घर पहुंची, माहौल गमगीन हो गया। आस-पास के गांव की महिलाएं सुनील के घर पहुंच गई और उनकी पत्नी चन्द्रावती को ढांढस बढ़ाते हुए कहा कि तहार सुहाग नइखे उजरल, देश के सुरक्षा के तिलक बा। महिलाओं ने कहा कि भारत माता की रक्षा के लिए चंद्रवती का सिंदूर काम आएगा।

सुनील ने सारण की शौर्यपूर्ण मिट्टी की परंपरा को कायम रखा

सारण के सुनील कुमार ने शौर्यपूर्ण मिट्टी की परंपरा को कायम रखा। चीनी सैनिकों के साथ झड़प में उन्होंने डटकर सामना किया और आखिरकार अपनी शहादत दे दी। सुनील बिहार रेजिमेंट के 16 बिहार बटालियन के हवलदार थे।

भोजपुर का एक वीर सपूत देश की रक्षा करते चीन के हमले में शहीद हो गया। शहीद जवान मूल रूप से जिले के बिहिया थाना क्षेत्र के पहरपुर गांव के रहने वाले रविशंकर ओझा के 28 वर्षीय पुत्र कुंदन ओझा थे। उनका परिवार करीब 30 साल से झारखंड राज्य के साहेबगज में रह रहा है। वहीं, मंगलवार की शाम बेटे की शहादत की खबर मिलते ही गांव का माहौल गमगीन हो उठा। वहीं कुंदन के पैतृक घर में भी कोहराम मच गया।

 
Have something to say? Post your comment
More National

कुवैत अग्निकांड: 'मेरे पति को मेरे पास वापिस लाओ' पत्नी ने रो-रो कर लगाई मदद की गुहार कहा- मैं उसे देखना चाहती हूं..

उत्तरी सिक्किम में बाढ़-भूस्खलन से फिर तबाही, 1 व्यक्ति की मौत, 5 लापता

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला: दोबारा परीक्षा देंगे छात्र, NEET ग्रेस अंक रद्द

प्याज की कीमतों ने जनता को रूलाया, इतने रूपए हुआ महंगा

माता वैष्णों देवी के बाद अब अमरनाथ यात्रा को लेकर अलर्ट जारी, घाटी 150 से ज्यादा आतंकी एक्टिव

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने मोदी 3.0 सरकार के शपथ ग्रहण समारोह से पहले जारी की एडवाइजरी, इन रूट्स पर जानें से बचें

मोदी सरकार 3.0: BJP अपने पास रखेगी ये 4 अहम मंत्रालय

वैष्णो देवी से आ रहे श्रद्धालुओं के साथ हुआ बड़ा हादसा, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर पलटी बस, 30 से ज्यादा यात्री घायल

एनडीए ने 293 सीटों पर बनाई बढ़त, प्रशांत किशोर ने बताई बीजेपी की हार की वजहें

NDA संसदीय दल के नेता के लिए मोदी का नाम प्रस्‍तावित, पहले जोड़े हाथ फिर उठाकर माथे से लगाया संविधान

 
 
 
 
 
 
Grievance Redressal Disclaimer Complaint
Star Khabre
Email : editor@starkhabre.com
Email : grostarkhabre@gmail.com
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech