Latest :
घर बैठे कमाई के चक्कर में शख्स ने बच्चों की पढ़ाई और शादी की रकम गंवाईMDH, एवरेस्ट मसालों पर बैन के बाद भारत सरकार सख्त, FSSAI ने शुरू की जांचभ्रष्टाचार मामले में JJP नेता दुष्यंत पर अब मनोहर वार, सीएम सैनी और अभय चौटाला पहले ही दे चुके हैं बयानरिवाल्वर व जिंदारोंद सहित आरोपी को अपराध शाखा सेक्टर-17 की टीम ने किया गिरफ्तारवाहन चोरी करने वाले आरोपी को अपराध शाखा उंचा गांव की टीम ने मोटरसाइकिल सहित किया गिरफ्तारहरियाणा के लिए कांग्रेस की लिस्‍ट जारी, रोहतक से आशा हु्ड्डा उम्‍मीदवारहरियाणा में पशु चारा जलकर राख, खराब गाड़ियों के सहारे आग बुझाने पहुंचा दमकल विभाग, लाखों का हुआ नुकसानचुनावों में व्यापारी व दुकानदार अधिक से अधिक करें मतदान : राजेश भाटियाएक्सीडेंट के मामले में 7 साल से फरार आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तारसाइबर अपराध के 20 आरोपी गिरफ्तार
WhatsApp/FaceBook Masala : Zamane Ke Naye Andaz Me

'दिमागी शक्ति को बचाए रखने के लिए फेसबुक, ट्वीटर से करें तौबा'

August 09, 2015 12:17 PM

Star Khabre, August 9th : जो किशोर फेसबुक, ट्वीटर और इंस्टाग्राम जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर प्रतिदिन दो घंटे से ज्यादा समय बिताते हैं उनके लिए यह नया अध्ययन कुछ जानकारियों का खुलासा करता है। इसके हिसाब से सोशल नेटवर्किंग साइट्स के ज्यादा लंबे समय तक प्रयोग से किशोरों में आत्महत्या की भावना बढ़ाने वाले विचारों, मनोवैज्ञानिक परेशानियों और मानसिक विकारों के बढ़ने का खतरा रहता है और यह उनके मानसिक स्वास्थ्य को भी खराब करता है।

शोधार्थियों का कहना है कि जो किशोर लंबे समय तक सोशल नेटवर्किंग साइट्स का प्रयोग करते हैं उन्हें मानसिक स्वास्थ्य सहायता की जरूरत है। उन्होंने कहा कि यह अध्ययन अभिभावकों को तो एक महत्वपूर्ण संदेश देता ही है, साथ ही मानसिक स्वास्थ्य सहायता सेवा प्रदाताओं के लिए एक अवसर भी है कि वे इन साइटों पर अपनी पहुंच बढ़ाएं।

कनाडा में ओटावा पब्लिक हेल्थ के ह्यूग्यूस सांपसा-कयिंगा और रोजमंड लुईस ने सातवीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों के ओंटेरियो छात्र दवा उपभोग एवं स्वास्थ्य सर्वेक्षण आंकड़ों का विश्लेषण किया। इनमें से लगभग 25 प्रतिशत छात्रों को दो घंटे से ज्यादा सोशल नेटवर्किंग साइट्स प्रयोग करने का आदी पाया गया। शोधार्थियों ने सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर बिताए वक्त की तुलना किशोरों के मनौवैज्ञानिक परीक्षणों और आवश्यक मानसिक स्वास्थ्य सहायता जरूरतों से की।

कैलिफोर्निया के सैंन डिएगो के इंटरेक्टिव मीडिया इंस्टीट्यूट की ब्रेंडा के. वीडरहोल्ड ने कहा, ‘यह वह है जहां हम सोशल नेटवर्किंग साइट्स को पाते हैं, जो किसी के लिए परेशानी का सबब हैं और किसी के लिए समाधान।’ उन्होंने कहा कि जैसा कि किशोर इन साइटों का प्रयोग करते हैं तो यह जन स्वास्थ्य और स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए एक अवसर की तरह है कि वे इस विस्तृत जनसंख्या तक पहुंचकर स्वास्थय सेवाओं और सहायता का यहां पर प्रचार करें। यह अध्ययन साइबर साइकलोजी, बिहेवियर एंड सोशल नेटवर्किंग जर्नल में प्रकाशित हुआ है। (भाषा)

 
Have something to say? Post your comment
More WhatsApp/FaceBook Masala : Zamane Ke Naye Andaz Me
 
 
 
 
 
 
Grievance Redressal Disclaimer Complaint
Star Khabre
Email : editor@starkhabre.com
Email : grostarkhabre@gmail.com
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech