Latest :
कोरोना के खिलाफ लड़ाई में वैक्सीनेशन सबसे ज्यादा मददगार: कृष्ण पाल गुर्जरफरीदाबाद में शनिवार को कोविड-19 का कोई मामला पोजिटिव नहीं आया : उपायुक्त जितेंद्र यादवडेगूं, वायरल और मलेरिया बुखार से बचाने के लिए नियमों की पालना जरूरी स्वयं की सुरक्षा कर रखें दूसरों को भी सुरक्षित: उपायुक्त जितेन्द्र यादवअंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस के उपलक्ष्य में आंगनवाड़ी केंद्रों में आयोजित किए गए महिला जागरूकता कार्यक्रमविभाग अगले सप्ताह प्रदेश के सभी सरकारी स्कूलों में खुलवाएगा नए वर्चुअल खाते: उपायुक्त जितेन्द्र यादवबच्चों को मोबाईल-टीवी की बजाए शरीर को फिट रखने वाले गेम खेलने चाहिए: उपायुक्त जितेन्द्र यादवफरीदाबाद में वीरवार को कोविड-19 के 3 मामलें पोजिटिव आये : उपायुक्त जितेंद्र यादवनशे की आपूर्ति व अय्याशी की जिंदगी जीने के लिए 2 आरोपी देने लगे चोरी की बड़ी-बड़ी वारदातों को अंजाम, क्राइम ब्रांच के चढ़े हत्थेपडोसी के घर चोरी करने वाले दो आरोपी सद्वाम और सलीम चढ़े क्राइम ब्रांच एनआईटी के हत्थेबरसात से खराब हुई सड़कों की मरम्मत का कार्य तुरंत पूरा करें : मुख्यमंत्री मनोहर लाल
Business

जानिए प्रवासी मजदूरों को वापस लाने के लिए अब क्या-क्या पापड़ बेल रही हैं कंपनियां

June 24, 2020 01:10 PM

Star Khabre, Business; 24th June : कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के चलते 24 मार्च को लॉकडाउन की घोषणा हुई। सभी कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को कोई भी मौका दिए बगैर दुकानें बंद कर दीं, क्योंकि सब कुछ अचानक हुआ। फिर शुरू हुई प्रवासी मजदूरों के अपने घरों तक पहुंचने की जद्दोजहद। जैसे-तैसे कोई लिफ्ट ले-लेकर घर पहुंचा, तो कोई साइकिल से तो हजारों लोग ऐसे भी थे जो पैदल ही हजारों किलोमीटर चले। अब कंपनियां दोबारा शुरू हो गई हैं और मजदूरों को वापस बुला (Comapnies attracting migrant workers) रही हैं, लेकिन मजदूर वापस आने में हिचक रहे हैं।

प्रवासी मजदूरों को वापस बुलाने के लिए कंपनियां भी तरह-तरह के प्रलोभन दे रही हैं। यहां तक कि कंपनियां गांव के प्रमुख से भी बात कर रही हैं कि लोगों को काम के लिए भेजें। बदले में कंपनियां मजदूरों की सुरक्षा सुनिश्चित कर रही हैं और साथ ही उनके आने-जाने की व्यवस्था भी खुद ही करने को तैयार हैं। बहुत से मजदूरों ने लौटने की इच्छा भी जताई है, लेकिन उसके लिए कंपनियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी है। मुंबई की एक फार्मा कंपनी ने पिछले तीन महीनों में लेबर की बहुत दिक्कत झेली है, जिसके बाद वह अपने कर्मचारियों को आने जाने के लिए बस की सुविधा तक मुहैया करा रही है। केईसी इंटरनेशनल के एमडी और सीईओ विमल केजरीवाल बताते हैं कि उनकी कंपनी के करीब दो तिहाई मजदूर वापस आ चुके हैं। वह बताते हैं कि कंपनी की तरफ से मजदूरों के परिवारों और गांव के सरपंचों को मजदूरों की सुरक्षा का वादा किया जा रहा है। केजरीवाल बताते हैं कि कुछ इलाकों में तो मजदूरों को फ्लाइट से भी वापस लाया जा रहा है।

क्या कर रही हैं कंपनियां?

मजदूरों को वापस लाने के लिए बस और ट्रेन से आगे बढ़कर कंपनियां फ्लाइट्स से भी मजदूरों को वापस बुला रही हैं।
कंपनियों की ओर से मजदूरों को रहने के साथ-साथ तमाम तरह की सुविधाएं मुहैया कराई जा रही हैं।
मजदूरों को वापस लाने के लिए कंपनियां दोनों जगहों के अधिकारियों से इजाजत ले रही हैं।

 
Have something to say? Post your comment
More Business

Coca Cola अगले 30 दिन तक सोशल मीडिया पर नहीं देगी विज्ञापन, जानें क्या है इस फैसले की वजह

पिछले दिनों में हुए Income Tax से जुड़े ये 6 बदलाव, जिन्हें जानना आपके लिए है जरूरी

ब्राजील से ठुकराए जाने के बाद अब भारत में वाट्सऐप पे लॉन्च करने का रास्ता साफ!

सोने-चांदी के वायदा भाव में गिरावट, वैश्विक कीमतें भी लुढ़कीं, जानिए क्या हैं दाम

केवल नारे से नहीं चलेगा काम, डोकलाम के बाद चीन से दवा आयात 28% बढ़ा

पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार 14वें दिन बढ़ोत्तरी, जानें आपके शहर में क्या हो गए हैं रेट

चांदी की कीमतों में गिरावट, साेना और हुआ महंगा, जानें 19 जून का ताजा भाव

PM Modi ने लॉन्‍च की कोयला खानों की नीलामी, बोले- भारत COVID संकट को अवसर में बदलेगा

ट्रेन में किसी ने छोड़ दीं 14.48 करोड़ रुपये के सोने की ईंटें, नौ महीने से नहीं आया कोई दावेदार

रिटायरमेंट के बाद शानदार लाइफ बितानी हो तो अभी से शुरू कर दें प्लानिंग

 
 
 
 
 
 
Grievance Redressal Disclaimer Complaint
Star Khabre
Email : editor@starkhabre.com
Email : grostarkhabre@gmail.com
Copyright © 2017 Star Khabre All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech